Page 10 - The International Symposium on Novel ideas in Science and Ethics of Vaccines Against COVID-19 pandemic
P. 10

िमय पर और िुरवक्षत कोविड-19 िैक्िीन



                                                                              की ओर: नेतृत्ि की वटप्पणी
                                                                      “          भारत में टीकों क े  फवकास और उत्पादन क े  फलए बडी सांभावनाएां हैं। टीकों








                                                                                 क े  फनमाथण में त्वररत, तात्काफलक क े  सार् ही सुरक्षा और गुणवत्ता का सांतुलन

                                                                                 जऱूरी होता है। टीका राष्ट्रवाद को बढ़ा सकता है।




                                                                                 जब टीक े  क े  फवतरण की बात आती है तो फनष्ट्पक्षता और न्याय कायम रहना
                                                                                 चाफहए। फवज्ञान और राजनीफत क े  बीच फनयफमत सांवाद होना चाफहए। सार् ही


                                                                                 डब्कयूएचओ, सीईपीआई और जीएवीआई जैसे सुपर राष्ट्रीय सांगठनों को नजर
                                                                                 अांदाज नहीं करना चाफहए।                               “









                                                                                    प्रो ओिे पीटर ओटिान









                                                                                                                                                                                    10
   5   6   7   8   9   10   11   12   13   14   15