Page 8 - The International Symposium on Novel ideas in Science and Ethics of Vaccines Against COVID-19 pandemic
P. 8

िमय पर और िुरवक्षत कोविड-19



                                                                             िैक्िीन की ओर: नेतृत्ि की वटप्पणी

                                                                      “         क े वल टीका हमें इस सबसे बडे सावथजफनक स्वास््य, आफर्थक व सामाफजक




                                                                                सांकट से बाहर फनकाल सकता है। हम महामारी की शुरुआत में हैं तर्ा

                                                                                वायरस पर फनयांत्रण तभी होगा जब हर कोई या तो सांक्रफमत हो या उसे टीका

                                                                                लगाया जाय।




                                                                                वैक्सीन फनमाथताओ ां क े  फलए यह आपसी नहीं बफकक वायरस क े  फखलाि दौड

                                                                                है। मैं कोफवड सांक्रमण क े  एक ददथनाक अनुभव से गुजरा ह ां। जब तक हमारे

                                                                                पास एक प्रभावी फचफकत्सा उपलब्ध ना हो तब तक हमें युवाओ ां को परीक्षण

                                                                                में शाफमल करने का जोफखम नहीं लेना चाफहए।




                                                                                आज दुफनया क े  आधे से अफधक टीक े  भारत में उत्पाफदत फकए जाते हैं, और

                                                                                इस क्षमता क े  फबना टीक े  फवकफसत नहीं हो सकता है। हमें पूरी दुफनया में

                                                                                टीक े  उपलब् ध कराने में मुफश्कल होगी।                                                             “



                                                                                  प्रोफ े िर पीटर पाएट


                                                                                                                                                                                     8
   3   4   5   6   7   8   9   10   11   12   13